भारत ने जिम्बाब्वे को आखिरी टी-20 मैच में 42 रनों से हराया और 4-1 की जीत के साथ शृंखला पर कब्जा जमाया केंद्रीय वित्त मंत्रालय की मंजूरी से महिला आईआरएस अधिकारी पुरुष बनी..! अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप पर भाषण के दौरान चली गोलियां, बाल-बाल बचे..सुरक्षा अधिकारियों ने हमलावरों को किया ढेर आज है विक्रम संवत् 2081 के आषाढ़ माह के शुक्लपक्ष की अष्ठमी तिथि सायं 05:26 बजे तक तदुपरांत नवमी तिथि प्रारंभ यानी रविवार, 14 जुलाई 2024
चूहे का मर्डर.. ! चूहे पर पशु क्रूरता अधिनियम लागू होगा या नहीं, पता कर के ही कानूनी कार्यवाही करेगी बदायूं पुलिस

अजब-गजब

चूहे का मर्डर.. ! चूहे पर पशु क्रूरता अधिनियम लागू होगा या नहीं, पता कर के ही कानूनी कार्यवाही करेगी बदायूं पुलिस

अजब-गजब//Uttar Pradesh /Lucknow :

उत्तर प्रदेश के बदायूं में एक ऐसी घटना घटी जो इन दिनों सोशल मीडिया पर चर्चा का विषय बनी हुई है। दरअसल, उत्तर प्रदेश के बदायूं में मनोज नाम के एक शख्स ने चूहे को मार दिया। उसके बाद विकेंद्र सिंह, पशु प्रेमी ने पुलिस में एफआईआर दर्ज करवाई। उनका कहना है, आरोपी  एक पुलिया के पास चूहे की पूंछ में पत्थर बांधकर उसे नाले में डुबा रहा था।

मना करने पर उसने चूहे को नाले में फेंक दिया। फिर उसे धागे के सहारे बाहर खींचा और फिर से नाले में फेंका। वह ऐसा तब तक करता रहा,जब तक चूहा मर नहीं गया। पशु क्रूरता अधिनियम के तहत आरोपी पर कार्रवाई की गई। मामला पशु क्रूरता से जुड़ा है इसलिए शव का पोस्टमॉर्टम होना जरूरी है। इसका खर्च शिकायतकर्ता ही उठा रहा है।

शव को पोस्टमार्टम के लिए  बरेली भेजा गया
विकेंद्र की तहरीर पर सदर कोतवाली पुलिस ने चूहे के शव को सील कर बदायूं के पशु चिकित्सालय में भिजवाया लेकिन वहां के कर्मचारियों ने संसाधनों के अभाव में पोस्टमॉर्टम करने से इनकार कर दिया। इसके बाद मृत चूहे के शव को पोस्टमार्टम के लिए आईवीआरआई, बरेली भेज दिया गया था।

पुलिस ने कहा…
बदायूं नगर के पुलिस उपाधीक्षक आलोक मिश्रा ने बताया की चूहे को नाले में डुबोकर मारने की शिकायत मिली थी, जिस पर तत्काल कार्रवाई करते हुए आरोपी मनोज कुमार को थाने बुलाकर पूछताछ की गई| उन्होंने कहा कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद आरोपी के खिलाफ विधिक कार्यवाही की जाएगी | हालांकि,पुलिस उपाधीक्षक ने स्पष्ट किया कि चूहा पशु की श्रेणी में नहीं आता है इसलिए पशु क्रूरता अधिनियम लागू नहीं होगा |

आरोपी का तर्क 

अब आरोपी मनोज ने सवाल किया है कि जो लोग मुर्गा काटते हैं, बकरा काटते हैं, गाय काटते हैं,, उन्हें सजा कब मिलेगी?

विधिक रॉय के बाद ही वैधानिक कार्रवाई
पुलिस ने कहा कि चूहा पशु की श्रेणी में नहीं आता है इसलिए पशु क्रूरता अधिनियम लागू नहीं होगा। उन्होंने कहा कि इस केस में विधिक राय भी ली जाएगी, उसके बाद ही वैधानिक कार्रवाई की जाएगी।

You can share this post!

author

सौम्या बी श्रीवास्तव

By News Thikhana

Comments

Leave Comments