आज है विक्रम संवत् 2081 के आषाढ़ माह पूर्णिमा तिथि दोपहर 03:46 तक बजे तक यानी रविवार, 21 जुलाई 2024
रूसी लड़ाकू विमान ने अमेरिकी ड्रोन पर दागे फ्लेयर्स 

सेना

रूसी लड़ाकू विमान ने अमेरिकी ड्रोन पर दागे फ्लेयर्स 

सेना///Moscow :

सीरिया में एक रूसी फाइटर जेट ने अमेरिकी ड्रोन पर फ्लेयर्स दागे। इस दौरान अमेरिका के एमक्यू-9 ड्रोन का प्रोपेलर खराब हो गया। 

सीरिया के आसमान में रूस अमेरिका की नोकझोंक जारी है। यूएस एयरफोर्स सेंट्रल के लेफ्टिनेंट जनरल एलेक्स ग्रिन्केविच ने मंगलवार को बताया कि रविवार को एक रूसी लड़ाकू विमान अमेरिकी ड्रोन के बेहद करीब उड़ान भर रहा था। इसके बाद वो ड्रोन के ऊपर चला गया और उस पर फ्लेयर्स छोड़ने लगा। इनमें से एक फ्लेयर ड्रोन के प्रोपेलर पर आकर लगा, जिससे उसे काफी नुकसान पहुंचा। हालांकि, बाद में ड्रोन का क्रू उसे बेस स्टेशन तक ले जाने में कामयाब रहा। लेफ्टिनेंट जनरल ने कहा- सीरिया में आईएस को हराना ही हमारा मकसद है। ऐसे में रूस की तरफ से ये गैर-जिम्मेदाराना रवैया मिशन में अड़ंगे लगा रहा है। उन्हें तुरंत इस तरह की हरकतें बंद करनी चाहिए।
रूसी फाइटर जेट ने 3 अमेरिकी ड्रोन्स को परेशान किया था
इससे पहले भी अमेरिका सीरिया में रूस पर लगातार उसके ड्रोन्स को निशाना बनाने का आरोप लगा चुका है। हालांकि, इस पर रूस कोई प्रतिक्रिया नहीं देता है। करीब 20 दिन पहले भी अमेरिकी एयरफोर्स ने वीडियो शेयर कर दावा किया था रूस के 3 सुखोई फाइटर जेट ने उसके 3 एमक्यू-9 ड्रोन्स को सीरिया में परेशान किया था। एयरफोर्स के बयान के मुताबिक, रूस के सिखोई-35 फायटर जेट्स ने ड्रोन्स के सामने पैराशूट से फ्लेयर्स दागे थे, जिससे उनका फ्रंट व्यू ब्लॉक हो गया था। इसके बाद ड्रोन को अपना रास्ता बदलना पड़ा था।
सीरिया में तैनात अमेरिका की 900 फोर्स
सीरिया में अमेरिका और रूस दोनों की आर्मी अक्सर ऑपरेशन चलाती रहती हैं। अमेरिका की करीब 900 फोर्सेज सीरिया में इस्लामिक स्टेट के आतंकवादियों से लड़ने के लिए कुर्द नेतृत्व वाली सीरियाई डेमोक्रेटिक फोर्स के साथ काम करने के लिए तैनात हैं। वहीं, रूस की सेना सीरिया के राष्ट्रपति बशर अल-असद के समर्थन में वहां मौजूद है।
मार्च में सुखोई ने किया था ड्रोन पर हमला
इससे पहले मार्च में रूस-यूक्रेन बॉर्डर के करीब रूस के सुखोई फाइटर जेट ने अमेरिका के एडवांस्ड रीपर ड्रोन पर हमला किया था। ब्लैक सी के ऊपर अमेरिकी ड्रोन एमक्यू-9 रीपर सर्विलांस कर रहा था। रूस के दो मिग-27 ने इस रीपर को 40 मिनट तक घेरकर उस पर फ्यूल गिराया था। ये फ्यूल रीपर के प्रोपेलर में पहुंचा और ड्रोन कुछ देर बाद ब्लैक सी में क्रैश हो गया था।

You can share this post!

author

Jyoti Bala

By News Thikhana

Senior Sub Editor

Comments

Leave Comments