CM केजरीवाल को कल गिरफ्तार कर सकती है CBI NDA के स्पीकर पद के उम्मीदवार ओम बिरला ने पीएम मोदी से मुलाकात की दिलेश्वर कामत जेडीयू संसदीय दल के नेता होंगे पूर्व फुटबॉलर बाइचुंग भूटिया ने राजनीति छोड़ी, सिक्किम चुनाव में हार के बाद फैसला घाटकोपर होर्डिंग केस: IPS कैसर खालिद सस्पेंड, उनकी इजाजत पर लगा था होर्डिंग पुणे पोर्श कांड: आरोपी नाबालिग को हिरासत से रिहा किया गया लोकसभा के 7 सांसदों ने नहीं ली शपथ, कल स्पीकर चुनाव में नहीं कर सकेंगे मतदान जगन मोहन रेड्डी की पार्टी स्पीकर चुनाव में NDA उम्मीदवार का समर्थन कर सकती है कल सुबह 11 बजे तक के लिए लोकसभा स्थगित स्पीकर चुनाव के लिए बीजेपी ने व्हिप जारी किया, सभी सांसदों को लोकसभा में रहना होगा मौजूद स्पीकर चुनाव: कांग्रेस का व्हिप जारी, कल सभी सांसदों को लोकसभा में मौजूद रहने को कहा आज है विक्रम संवत् 2081 के आषाढ़ माह के कृष्णपक्ष की पंचमी तिथि रात 08:54 बजे तक यानी बुधवार, 26 जून 2024 Jaipur: मैसर्स तंदूरवाला में कार्रवाई के दौरान पायी गयीं भारी अनियमितताएं..लाइसेंस, साफ़ सफाई सहित अन्य दस्तावेज मिले नदारद मायावती का भतीजे आकाश आनंद पर उमड़ा प्रेम, 47 दिन पुराने फैसले को पलट बनाया राष्ट्रीय संयोजक राजस्थान में आषाढ़ माह के चौथे दिन मेवाड़ में छाये बादल, मौसम विभाग भी बोला मानसून का हो गया प्रवेश
पीओके पर एस. जयशंकर का बड़ा बयान, पाकिस्तान-चीन की आत्मा हिल जाएगी

राजनीति

पीओके पर एस. जयशंकर का बड़ा बयान, पाकिस्तान-चीन की आत्मा हिल जाएगी

राजनीति//Delhi/New Delhi :

भारत के विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने कहा कि पीओके के लोग अपनी स्थिति की तुलना जम्मू और कश्मीर से कर रहे होंगे। उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर की तरक्की देखकर ही पीओके में बवाल मचा हुआ है।

भीषण महंगाई के चलते पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में बीते कुछ दिनों से हिंसक प्रदर्शन हो रहे हैं। इस पर भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर ने सोमवार (20 मई) को कहा कि ‘मुझे नहीं लगता कि लोग यह कह रहे हैं कि पीओके भारत का हिस्सा होगा। पीओके हमेशा से भारत का हिस्सा था। उन्होंने कहा कि पीओके, जिन कारणों से हम सभी जानते हैं, वर्तमान में पाकिस्तान के कब्जे में है। फिलहाल, हम पीओके में बहुत हलचल देख रहे हैं।’
एक कार्यक्रम के दौरान पीओके की स्थिति पर विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर ने कहा कि एक कारण यह हो सकता है कि वे कश्मीर घाटी में प्रगति देख रहे हैं। वे कह रहे हैं कि उनका जीवन बेहतर हो रहा है, हो सकता है मैं क्यों पीछे रहूं। जम्मू-कश्मीर की तरक्की देखकर ही पीओके में बवाल मचा हुआ है। इसके साथ ही, विदेश मंत्री ने कहा कि कृपया कश्मीर के लोगों को उन समस्याओं के लिए दोषी न ठहराएं, जो वे पिछले 80 सालों से झेल रहे हैं। यह वहां के नेतृत्व का एक छोटा सा वर्ग है, जिसने समस्या पैदा की है। 
कश्मीर की तरक्की देख पीओके में मचा है बवाल
विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने आगे कहा कि एक बार आप कश्मीर में सामान्य स्थिति लाएं और उन्हें भारत में एकीकृत करें। अचानक अर्थव्यवस्था में तेजी आती है, पर्यटन में तेजी आती है, लोग स्कूल जाने लगते हैं, मेडिकल कॉलेज शुरू होते हैं, कारोबार फलने-फूलने शुरू हो जाते हैं, और अंतरराष्ट्रीय उड़ानें होती हैं। विदेश मंत्री ने कहा कि ये सब पहले भी हो सकता था, लेकिन लोगों का एक छोटा वर्ग इसे पीछे की ओर रखना चाहता था, क्योंकि उन्हें इससे लाभ मिल रहा था और वे अपने राजनीतिक विचारों का प्रचार कर रहे थे। एस. जयशंकर ने कहा कि कश्मीर एक अच्छा उदाहरण है कि जब वहां सुशासन होता है तो क्या होता है। 
आने वाला समय कठिन हो सकता है
विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने दुनिया में बदलती भू-राजनीति के कारण भारत की विदेश नीति में किसी भी संभावित बदलाव को लेकर अपनी बात कही। जयशंकर ने एक कार्यक्रम में कहा कि हम सभी को यह मानकर चलना चाहिए कि आने वाले साल बहुत कठिन होंगे। उन्होंने कहा किसी को उम्मीद नहीं थी कि यूक्रेन में युद्ध होगा। अब हम यूक्रेन के साथ युद्ध के तीसरे साल में चल रहा हैं जिसका कोई अंत नहीं दिख रहा है। एस. जयशंकर ने कहा कि किसी ने भी अक्टूबर में इजराइल पर इस तरह के हमले की उम्मीद नहीं की थी या जब इजराइल ने जवाब दिया तो यह इतने लंबे समय तक चलेगा, लेकिन 6 महीने से ज्यादा का समय हो चुका है।
तो स्विच बंद करना मुश्किल होता है- विदेश मंत्री
विदेश मंत्री ने कहा कि युद्ध ऐसा होता है एक बार जब आप स्विच चालू करते हैं तो इसे बंद करना बहुत मुश्किल होता है। उन्होंने कहा कि भारत को अपने लिए और दुनिया के लिए शांति की जरूरत है। एस. जयशंकर ने कहा कि भारत की कूटनीति के लिए पहली बात इंडिया फर्स्ट को तरजीह पहले है, हमें यह सुनिश्चित करना होगा कि भारत सुरक्षित है, शांति है। इसके साथ ही हमारे देश के खिलाफ आतंकवादी हमले नहीं किए जाते हैं। अगर ऐसा हैं तो हमें यह सुनिश्चित करना चाहिए कि हमले को अंजाम देने वालों के लिए कड़ी सजा हो।

You can share this post!

author

Jyoti Bala

By News Thikhana

Senior Sub Editor

Comments

Leave Comments