ट्रेनी IAS पूजा खेडकर पर बड़ी कार्रवाई, UPSC ने दर्ज कराया केस NEET पेपर लीक केस: सॉल्वर बनने वाले सभी 4 स्टूडेंट्स को सस्पेंड करेगा पटना AIIMS माइक्रोसॉफ्ट सर्वर ठप: हैदराबाद एयरपोर्ट पर फ्लाइट्स के लिए इंडिगो स्टाफ ने हाथ से लिखे बोर्डिंग पास बिलकिस बानो केस: 2 दोषियों की अंतरिम जमानत याचिका पर विचार करने से SC का इनकार आज है विक्रम संवत् 2081 के आषाढ़ माह के शुक्लपक्ष की चतुर्दशी तिथि सायं 05:59 बजे तकयानी शनिवार, 20 जुलाई 2024
समाज के सभी वर्गों में समरसता चाहता है संघ: निम्बाराम

सामाजिक

समाज के सभी वर्गों में समरसता चाहता है संघ: निम्बाराम

सामाजिक//Rajasthan/Jaipur :

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की ओर से वरूण पथ मानसरोवर स्थित वेदना निवारण केन्द्र में हिंदू साम्राज्य दिनोत्सव कार्यक्रम का आयोजन किया गया। मुख्य वक्ता राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के क्षेत्र प्रचारक निम्बाराम ने कहा कि 350 वर्ष पूर्व ज्येष्ठ शुक्ल त्रयोदशी के दिन एक नए सूर्य का उदय हुआ था। बर्बरता और उत्पीडऩ का सामना कर रहे हिंदुओं को अत्याचारों से मुक्त कराने के लिए शिवाजी महाराज ने हिंदू पदपादशाही की स्थापना की।

उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ जिसकी स्थापना 100 वर्ष पूर्व हुई, हिंदुओं का संगठन है। यह संगठन विश्व को शांति के मार्ग पर ले जाने के लिए तत्पर है। उन्होंने कहा कि हम समाज के सभी वर्गों में समरसता चाहते हैं। इसके लिए स्वयंसेवकों को अपने घरों से इसकी शुरुआत करने पर जोर दिया। उन्होंने अपने दैनिक आचरण, क्रिया व्यवहार खान-पान वेशभूषा में स्वदेशी अपनाने का आग्रह किया। अपने आसपास पर्यावरण का ध्यान रखना करते हुए भारतीय सामाजिक मूल्यों की स्थापना के लिए कुटुंब प्रबोधन और नागरिकों कर्तव्य पर जोर दिया। 
    कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे सेवानिवृत्त भारतीय प्रशासनिक अधिकारी के एन गुप्ता ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ को देश-भक्त संगठन के रूप में विश्व में पहचान की बात कही। कार्यक्रम में भाग संचालक मानसिंह चौहान भी मंच पर उपस्थित थे।  कार्यक्रम से पूर्व निंबाराम ने माधव बस्ती स्थित पार्क में 5 पौधे रोपित किए।
 

You can share this post!

author

News Thikana

By News Thikhana

News Thikana is the best Hindi News Channel of India. It covers National & International news related to politics, sports, technology bollywood & entertainment.

Comments

Leave Comments