ध्य प्रदेश के चर्चित जस्टिस रोहित आर्य ने भाजपा का दामन थामा प्रशिक्षु आईएएस पूजा खेडकर के विरुद्ध सख्ती, ट्रेनिंग रद्द कर वापस भेजा गया मसूरी अकादमी..! बदले में पूजा ने पुणे डीएम पर लगाया यौन उत्पीड़न का आरोप हरभजन, युवराज सिंह और रैना मुश्किल में, पैरा एथलीट्स का उड़ाया था मजाक..FIR दर्ज आज है विक्रम संवत् 2081 के आषाढ़ माह के शुक्लपक्ष की दशमी तिथि रात 08:33 बजे तक तदुपरांत एकादशी तिथि प्रारंभ यानी मंगलवार, 16 जुलाई 2024
Shivaji Jayanti 2023: कब है छत्रपति शिवाजी महाराज की जयंती ? हिन्दू स्वराज के संस्थापक के जन्म की तारीख और खास बातें..

Shiv Jayanti 2023

श्रद्धांजलि

Shivaji Jayanti 2023: कब है छत्रपति शिवाजी महाराज की जयंती ? हिन्दू स्वराज के संस्थापक के जन्म की तारीख और खास बातें..

श्रद्धांजलि//Rajasthan/Jaipur :

Shivaji Jayanti 2023 : बहादुर हिन्दू शासक छत्रपति शिवाजी महाराज को उनकी जयंती पर विशेष तौर पर भारतवर्ष के लिए उनके शौर्य को याद किया जाता है। महाराष्ट्र में तो Shivaji Jayanti बड़े गर्व और हर्षोल्लास के साथ मनाई जाती है। इस दिन विशेष रूप से भव्य शोभायात्राओं का भी आयोजन किया जाता है जिनके जरिये मराठों की समृद्ध और व्यापक सांस्कृतिक विरासत को देखा जा सकता है।

शिवाजी महाराज जयंती 2023 तिथि: मराठा साम्राज्य के संस्थापक वीर हिन्दू सम्राट छत्रपति शिवाजी की जयंती हर साल 19 फरवरी को मनाई जाती है। छत्रपति शिवाजी महाराज महिमा, शौर्य, दया और उदारता के प्रतीक थे। महात्मा ज्योतिराव फुले ने फाल्गुन के कृष्णपक्ष की तृतीया तिथि को 1870 में पुणे में शिव जयंती के रूप में मनाया था। उस दिन 19 फरवरी थी और तब से इसी दिन को शिन जयंती के रूप में मनाया जाने लगा।  मराठा समुदाय के हिन्दू शासक का 393वां जन्मदिन इस बार भी 19 फरवरी, 2023 को ही मनाया जाएगा।
महाराष्ट्र में शिव जयंती बड़े गर्व और हर्षोल्लास के साथ मनाई जाती है। इस दिन भव्य शोभायात्राओं का भी आयोजन किया जाता रहा है। छत्रपति शिवाजी जयंती महाराष्ट्र में व्यापक रूप से मनाई जाती है। इस दिन मराठों की समृद्ध और व्यापक सांस्कृतिक विरासत को देखा जा सकता है। लोग बहादुर हिन्दू राजा छत्रपति शिवाजी महाराज की जयंती पर उनके अपार योगदान को याद करते हैं और कई सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन करके उन्हें सम्मानित करते हैं।

शिवाजी महाराज ने 16 साल की उम्र में तोरना किले और 17 साल की उम्र में रायगढ़ और कोंढाणा किले पर कब्जा कर लिया। वर्ष 1674 में, शिवाजी महाराज रायगढ़ में छत्रपति घोषित किये गए। शिवाजी ने अपने शासन काल में मराठी और संस्कृत जैसी भाषाओं का विस्तार किया। भारतीय इतिहास में उनका योगदान आने वाली पीढ़ियों के लिए प्रेरणास्रोत है।

शिवराय का जन्म 19 फरवरी 1630 को महाराष्ट्र के पुणे में शिवनेरी किले में हुआ था। इस दिन को महाराष्ट्र क्षेत्र के साथ-साथ देश के अन्य हिस्सों में एक भव्य आयोजन के रूप में मनाया जाता है। शक्तिशाली राजा को श्रद्धांजलि अर्पित करने के लिए छत्रपति शिवाजी जयंती मनाई जाती है। लोगों के दिलों और दिमाग में उनकी महिमा आज भी जीवित है। मराठा समाज में छत्रपति शिवाजी जयंती एक बहुत ही महत्वपूर्ण त्योहार है |
 

You can share this post!

author

सौम्या बी श्रीवास्तव

By News Thikhana

Comments

Leave Comments