भारत ने जिम्बाब्वे को आखिरी टी-20 मैच में 42 रनों से हराया और 4-1 की जीत के साथ शृंखला पर कब्जा जमाया केंद्रीय वित्त मंत्रालय की मंजूरी से महिला आईआरएस अधिकारी पुरुष बनी..! अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप पर भाषण के दौरान चली गोलियां, बाल-बाल बचे..सुरक्षा अधिकारियों ने हमलावरों को किया ढेर आज है विक्रम संवत् 2081 के आषाढ़ माह के शुक्लपक्ष की अष्ठमी तिथि सायं 05:26 बजे तक तदुपरांत नवमी तिथि प्रारंभ यानी रविवार, 14 जुलाई 2024
सुर्खियों में छोटी-छोटी गइयां... खास हैं इस नस्ल की गायें, जिन्हें पीएम ने खिलाया चारा

अजब-गजब

सुर्खियों में छोटी-छोटी गइयां... खास हैं इस नस्ल की गायें, जिन्हें पीएम ने खिलाया चारा

अजब-गजब//Andhra Pradesh/Hyderabad :

ये गायें पुंगनूर नस्ल की हैं और आंध्र प्रदेश से ताल्लूक रखती है। इनकी हाइट सिर्फ ढाई से तीन फीट तक होती है।

 ये गायें पुंगनूर नस्ल की हैं और आंध्र प्रदेश से ताल्लूक रखती है। इनकी हाइट सिर्फ ढाई से तीन फीट तक होती है। पुंगनूर नस्ल का बछड़ा या बछिया जब पैदा होती है तो उसकी हाइट महज 16 इंच से 22 इंच तक होती है। ये गाय अत्यधिक पौष्टिक दूध देती है।
पीएम मोदी ने मकर संक्रांति के मौके पर बीते दिन गायों को चारा खिलाया था। ये गायें अपनी नस्ल और हाइट को लेकर चर्चा में रहती हैं। जैसे ही इनकी तस्वीरें सामने आईं, हर कोई ये जानना चाहता था कि आखिर ये गायें किस नस्ल की हैं। सोशल मीडिया पर भी इनकी काफी चर्चा हुई। बताते चलें कि ये गायें पुंगनूर नस्ल की हैं और आंध्र प्रदेश से ताल्लूक रखती है। इनकी हाइट सिर्फ ढाई से तीन फीट तक होती है। पुंगनूर नस्ल का बछड़ा या बछिया जब पैदा होती है तो उसकी हाइट महज 16 इंच से 22 इंच तक होती है। ये गाय अत्यधिक पौष्टिक दूध देती है।
एक से पांच लाख रुपये में मिलती है एक गाय
दूध 8 फीसदी वसा के साथ औषधीय गुणों से भी भरपूर होता है। इसका दूध कई तरह की बीमारियों के खिलाफ कारगर होता है। ये गाय प्रतिदिन 3 से 5 लीटर दूध देती है। हालांकि, बात करें इसकी कीमत की तो एक गाय एक से पांच लाख रुपये में मिलती है।
विलुप्त होने के कगार पर है गाय की ये नस्ल
ये गाय ज्यादा चारा नहीं खाती। इन्हें प्रतिदिन महज 5 किलो की चारा डालना होता है। गाय की इन सब खासियतों के बीच परेशान करने वाली बात ये है कि ये नस्ल विलुप्त होने के कगार पर है। इसको देखते हुए आंध्र प्रदेश में इसके संरक्षण पर काम चल रहा है। जिसके परिणाम काफी सकारात्मक बताए जा रहे हैं।

You can share this post!

author

Jyoti Bala

By News Thikhana

Senior Sub Editor

Comments

Leave Comments