पीएम मुद्रा लोन की सीमा दोगुनी कर 20 लाख की घोषणा कैंसर की 3 दवाओं पर नहीं लगेगी कस्टम ड्यूटी, निर्मला सीतारमण का ऐलान देश में उच्च शिक्षा के लिए 10 लाख रुपये लोन की घोषणा 'दुकानदारों को अपनी पहचान बताने की जरूरत नहीं'- कांवड़ यात्रा नेमप्लेट विवाद पर सुप्रीम कोर्ट
मिस्त्र में नहीं बल्कि पहाड़ों में मिली है ये अनोखी ममी, 5000 साल बाद भी है जैसी की तैसी

अजब-गजब

मिस्त्र में नहीं बल्कि पहाड़ों में मिली है ये अनोखी ममी, 5000 साल बाद भी है जैसी की तैसी

अजब-गजब///Kahira :

मिस्र को रहस्यों का खजाना कहा जाता है लेकिन क्या आपको पता है कि ममी सिर्फ मिस्र में ही नहीं बल्कि पहाड़ों में भी पाई गई हैं। 

मिस्र का इतिहास बेहद पुराना है, जो अपने अंदर आज भी कई रहस्य समेटे हुए है, जिसके बारे में सोचना भी मुमकिल नहीं है। अक्सर वहां खुदाई में ऐसी-ऐसी ममी मिलती हैं, जो कई बार लोगों के आश्चर्य को पहले से और भी ज्यादा बढ़ा देती हैं। कहते हैं कि एक ममी अपने साथ न जाने कितने रहस्य उजागर कर देती है। यही वजह है कि, मिस्र को रहस्यों का खजाना कहा जाता है, लेकिन क्या आपको पता है ममी सिर्फ मिस्र में ही नहीं, बल्कि पहाड़ों में भी पाई गई हैं। दरअसल, 19 सितंबर 1991 में ऑस्ट्रिया और इटली के बीच फैली आल्प्स की पहाड़ियों पर एक ममी मिली थी, जिसके बारे में कई खास जानकारियां निकलकर बाहर आई हैं।

 

 पहाड़ों पर मिली ममी
सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स (पूर्व में ट्विटर) पर वायरल एक पोस्ट के कैप्शन के मुताबिक, 19 सितंबर 1991 में ऑस्ट्रिया और इटली के बीच आल्प्स की पहाड़ियों पर दो जर्मन हाइकर्स को पहाड़ों पर एक शव दिखाई दिया था। पोस्ट में दिखाई दे रही तस्वीर में देखा जा सकता है कि पूरा शरीर बर्फ की अंदर धंसा हुआ है। उस दौरान शव का सिर और कंधा बाहर की ओर निकला हुआ है। इस शव को जब पहली बार जर्मन हाइकर्स ने देखा, तो उनको लगा कि ये किसी पर्वतरोही का शरीर हो सकता है, जिसके बारे में उन्होंने वहां के अधिकारियों को जानकारी दी।
प्रकृति ने बचा रखा था शरीर
बर्फ में आधे धंसे मिले इस बॉडी का जब मेडिकल चेकअप हुआ, तो चौंकाने वाली बात सामने आई, जिसके बारे में जानकर वे भी हक्के-बक्के रह गए थे। दरअसल जिसे वो पर्वतरोही समझ रहे थे, असल में वो एक 5000 साल पुरानी ममी थी। पुरातत्वविदों को इस बारे में जानकारी दी गई। अपनी रिचर्स में वैज्ञानिकों ने इस बॉडी को नाम दिया ओत्जी द आइसमैन। रिचर्स में वैज्ञानिकों को पता चला कि, यह बॉडी 5300 साल पुरानी है। उस दौर को कॉपर युग के नाम से जाना जाता है। रिसर्च में ये बात निकलकर सामने आई कि, ओत्जी अपनी पूरी जिंदगी जी चुका था, मरने से पहले वो किसी लंबी यात्रा में था, क्योंकि ओत्जी के शरीर पर कई तरह के आक के फूल थे।
इटली के एक म्यूजियम में रखा गया है शरीर
हैरानी की बात तो यह कि, ओत्जी के शरीर से जानवरों का मांस भी मिला है, जो उसने मरने से पहले खाया होगा। ओत्जी के शरीर को अब इटली के एक म्यूजियम में रखा गया है। शरीर को मेंटेन रखने के लिए तापमान-6 डिग्री सेल्सियस रखा गया है। साल 2012 में 3डी एनिमेशन की मदद से इस तस्वीर को बनाया गया, ताकि ये पता चल सके कि, ओत्सी कौन था और वह कैसे मिला था।

 

You can share this post!

author

Jyoti Bala

By News Thikhana

Senior Sub Editor

Comments

Leave Comments