भारत ने जिम्बाब्वे को आखिरी टी-20 मैच में 42 रनों से हराया और 4-1 की जीत के साथ शृंखला पर कब्जा जमाया केंद्रीय वित्त मंत्रालय की मंजूरी से महिला आईआरएस अधिकारी पुरुष बनी..! अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप पर भाषण के दौरान चली गोलियां, बाल-बाल बचे..सुरक्षा अधिकारियों ने हमलावरों को किया ढेर आज है विक्रम संवत् 2081 के आषाढ़ माह के शुक्लपक्ष की अष्ठमी तिथि सायं 05:26 बजे तक तदुपरांत नवमी तिथि प्रारंभ यानी रविवार, 14 जुलाई 2024
'मिशन कर्मयोगी’ के तहत शुरू में केंद्र में लगभग 33 लाख सरकारी अधिकारियों को किया जाएगा प्रशिक्षित ; 21 दिसंबर तक कर सकते हैं आवेदन

एजुकेशन, जॉब्स और करियर

'मिशन कर्मयोगी’ के तहत शुरू में केंद्र में लगभग 33 लाख सरकारी अधिकारियों को किया जाएगा प्रशिक्षित ; 21 दिसंबर तक कर सकते हैं आवेदन

एजुकेशन, जॉब्स और करियर/सरकारी//Jaipur :

केंद्रीय कार्मिक मंत्रालय द्वारा गठित गैर लाभकारी कंपनी ‘कर्मयोगी भारत’ को केंद्र और राज्यों के करीब दो करोड़ सरकारी अधिकारियों को प्रशिक्षित करने के अपने राष्ट्रीय कार्यक्रम के तहत उद्योग तथा शिक्षा जगत के विशेषज्ञों की तलाश है। इस कंपनी ने ‘‘युवा पेशेवरों’’ को शामिल करने का भी फैसला किया है। इस मिशन को नौकरशाही में सुधार के लिए सबसे बड़ी पहल के रूप में देखा जा रहा है।

केंद्रीय कार्मिक मंत्रालय द्वारा गठित गैर लाभकारी कंपनी ‘कर्मयोगी भारत’ को केंद्र और राज्यों के करीब दो करोड़ सरकारी अधिकारियों को प्रशिक्षित करने के अपने राष्ट्रीय कार्यक्रम के तहत उद्योग तथा शिक्षा जगत के विशेषज्ञों की तलाश है. इस कंपनी ने ‘‘युवा पेशेवरों’’ को शामिल करने का भी फैसला किया है, जो ‘मिशन कर्मयोगी’ के उद्देश्य को पूरा करने के लिए सरकार द्वारा लिए जाने वाले विभिन्न नीतिगत निर्णयों पर शोध और विश्लेषण करेंगे. इस मिशन को नौकरशाही में सुधार के लिए सबसे बड़ी पहल के रूप में देखा जा रहा है. यह मिशन सिविल सेवा क्षमता निर्माण के लिए राष्ट्रीय कार्यक्रम है।

इस संबंध में भर्ती विज्ञापन के आधिकारिक आदेश के अनुसार, सरकारी संगठनों में दुनिया की सबसे बड़ी क्षमता-निर्माण पहल में से एक माने जा रहे ‘मिशन कर्मयोगी’ के तहत शुरू में केंद्र में लगभग 33 लाख सरकारी अधिकारियों को प्रशिक्षित किया जाएगा और अंततः केंद्र, राज्यों एवं स्थानीय निकायों के लगभग दो करोड़ सरकारी अधिकारियों की कार्यशैली में सुधार का लक्ष्य रहेगा. कर्मयोगी भारत सरकार की ओर से डिजिटल संपत्तियों के स्वामित्व, प्रबंधन, रखरखाव और सुधार का भी काम करेगा।

इसके तहत आईजीओटी कर्मयोगी एक व्यापक ऑनलाइन मंच है जो ऑनलाइन और विभिन्न माध्यमों से प्रशिक्षण को संभव बनाता है और अधिकारियों के प्रशिक्षण के रिकॉर्ड का प्रबंधन करता है. आदेश में कहा गया कि प्रौद्योगिकी संबंधी दीर्घकालिक खाका तैयार करने, मौजूदा कर्मयोगी भारत (केबी) समाधानों को नया स्वरूप देने/पुनर्निर्मित करने/सुधार करने, ‘कर्मयोगी भारत’ के व्यावसायिक मॉडल, पहुंच और उत्पादों आदि में बदलाव के लिए भी विशेषज्ञता की आवश्यकता होगी।

इसमें कहा गया कि ‘‘इन क्षेत्रों में प्रवेश करने और उत्कृष्टता प्राप्त करने के लिए सरकार के पास संभवत: आवश्यक प्रतिभा नहीं हो’’, इसलिए ‘कर्मयोगी भारत’ उद्योग और शिक्षा जगत के स्वयंसेवी विशेषज्ञों के साथ काम करने को इच्छुक है, ताकि ये विशेषज्ञ ‘आईजीओटी कर्मयोगी भारत’ मंच को बेहतर बनाने में अहम भूमिका निभा सकें। युवा पेशेवर श्रेणी के तहत आवेदन करने की अंतिम तिथि 21 दिसंबर है। स्वयंसेवक बनने के इच्छुक विशेषज्ञों के लिए आवेदन करने की अंतिम तिथि 22 दिसंबर है।

You can share this post!

author

सौम्या बी श्रीवास्तव

By News Thikhana

Comments

Leave Comments