झारखंड के साथ याद आते हैं नोटों के पहाड़, जमशेदपुर में बोले पीएम मोदी आंध्र प्रदेश: नेल्लोर में लॉरी से टकराई RTC बस, हादसे में 2 लोगों की मौत गोवा: BJP नेता बिकम हाथरे को कर्नाटक सीसीबी पुलिस ने किया गिरफ्तार केजरीवाल मौजूदा PM को सीधे चुनौती दे रहे हैं...ये आसान काम नहीं है: सलमान खुर्शीद AAP ने प्रदर्शन के लिए नहीं ली कोई परमिशन, बीजेपी ऑफिस के आसपास लगी रहती है धारा 144: दिल्ली पुलिस BJP मुख्यालय के बाहर 3 पैरामिलिट्री फोर्स की कंपनियां तैनात, AAP ने किया था प्रदर्शन का ऐलान
भारत में ही बनेंगे लड़ाकू विमान के इंजन: अमेरिका ने जनरल इलेक्ट्रिक को दीं सभी मंजूरियां

सेना

भारत में ही बनेंगे लड़ाकू विमान के इंजन: अमेरिका ने जनरल इलेक्ट्रिक को दीं सभी मंजूरियां

सेना/वायुसेना/Delhi/New Delhi :

डीआरडीओ के चेयरमैन डॉ. समीर वी कामत ने बताया कि एलसीए मार्क 2 के इंजन और स्वदेशी एडवांस्ड मीडियम कॉम्बैट एयरक्राफ्ट की पहली दो स्क्वाॅड्रन का निर्माण हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड, अमेरिकी कंपनी जनरल इलेक्ट्रिक के साथ मिलकर करेगी। 

भारत में एलसीए मार्क 2 लड़ाकू विमान के इंजन जनरल इलेक्ट्रिक के साथ मिलकर बनाने का रास्ता साफ हो गया है। दरअसल अमेरिका ने इससे संबंधित सारी मंजूरी दे दी हैं। डीआरडीओ के चेयरमैन डॉ. समीर वी कामत ने बताया, ‘एलसीए मार्क 2 के इंजन और स्वदेशी एडवांस्ड मीडियम कॉम्बैट एयरक्राफ्ट की पहली दो स्कवाड्रन का निर्माण हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड, अमेरिकी कंपनी जनरल इलेक्ट्रिक के साथ मिलकर करेगी। अमेरिका ने इससे जुड़ी सभी मंजूरी दे दी हैं।’
अमेरिकी सरकार ने दी मंजूरी
पीएम मोदी की जून में अमेरिका यात्रा के दौरान दोनों देशों के बीच रक्षा विनिर्माण क्षेत्र में कई अहम समझौते हुए थे। इसके तहत अमेरिकी कंपनी जनरल इलेक्ट्रिक भारतीय कंपनी हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड के साथ मिलकर लड़ाकू विमान के इंजन बनाने वाली है। जनरल इलेक्ट्रिक ने अमेरिका कांग्रेस में एक आवेदन देकर संयुक्त रूप से लड़ाकू इंजन बनाने की मंजूरी मांगी थी। अब डीआरडीओ चीफ के बयान से साफ है कि अमेरिका सरकार ने ये मंजूरियां दे दी हैं। 
देश में 99 इंजन तैयार होंगे
जनरल इलेक्ट्रिक, हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड के साथ मिलकर एफ-414 जेट इंजन का निर्माण करेगी। दोनों कंपनियां मिलकर भारत में 99 इंजनों का निर्माण करेंगी और इसमें एक अरब डॉलर से कम की लागत आने की उम्मीद है। जनरल इलेक्ट्रिक इन इंजनों के निर्माण में जो प्रौद्योगिकी उपलब्ध कराएगा, उनमें गर्म सिरे के लिए जंग, कटाव और थर्मल बाधा से बचाव के लिए विशेष कोटिंग की प्रौद्योगिकी शामिल हैं। एचएएल को एलसीए एमके-2 को तैयार करने में तीन साल का समय लग सकता है।

You can share this post!

author

Jyoti Bala

By News Thikhana

Senior Sub Editor

Comments

Leave Comments