भारत के दरवाजे तक पहुंची हूतियों की हिंसा! गुजरात के पास अरब सागर में टैंकर जहाज पर ड्रोन हमला

ट्रांस्पोर्ट

भारत के दरवाजे तक पहुंची हूतियों की हिंसा! गुजरात के पास अरब सागर में टैंकर जहाज पर ड्रोन हमला

ट्रांस्पोर्ट//Gujarat/Ahemdabad :

अरब सागर में भारतीय तट के पास एक व्यापारिक जहाज पर ड्रोन हमला हुआ है। यह जहाज भारत की यात्रा पर आ रहा था। माना जा रहा है कि हूतियों ने इस हमले को अंजाम दिया है जो लाल सागर में भीषण मिसाइल और विस्फोटक से लैस ड्रोन हमले कर रहे हैं।

भारतीय तट के पास हिंद महासागर में लाइबेरिया के झंडे वाले टैंकर पर ड्रोन से हमला किया गया है। अरब सागर में हुए इस हमले की कई रिपोर्टों में पुष्टि हुई है। इससे पहले ब्रिटेन के मैरिटाइम ट्रेड ऑपरेशन संगठन ने इस हमले के बारे में सूचना दी थी। बताया जा रहा है कि इस हमले में जहाज पर मौजूद कोई भी चालक दल का सदस्य घायल नहीं हुआ है। 
यह व्यापारिक जहाज अपने गंतव्य भारत की यात्रा को जारी रखे हुए है। इस ड्रोन हमले के बाद जहाज को कुछ नुकसान पहुंचा है। जहाज पर मौजूद चालक दल के सदस्यों के बारे में अभी कोई जानकारी नहीं है। इस हमले का शक यमन के हूतियों पर जताया जा रहा है।
बताया जा रहा है कि गुजरात के वेरावल तट से 200 नॉटिकल मील की दूरी पर यह ड्रोन हमला किया गया है। बताया जा रहा है कि इजरायल से इस जहाज का संबंध था और भारत आ रहा था। हूतियों ने ऐलान किया था कि वे इजरायल से जुड़े किसी भी जहाज को निशाना बनाएंगे। अब भारतीय तट पर ड्रोन हमले के बाद इसका शक हूतियों की ओर जा रहा है। इस हमले की अभी जांच की जा रही है। इस जहाज को पूरी सावधानी के साथ आगे की यात्रा को पूरा करने के लिए कहा गया है।
अब अफ्रीका के रास्ते व्यापार कर रही कंपनियां
भारत आ रहे जहाज पर ड्रोन हमले के बाद उसमें आग लग गई। इससे पहले इजरायल के हमले का विरोध कर रहे यमन के हूती विद्रोहियों ने भारत आ रहे एक जहाज का अपहरण कर लिया था। यही नहीं, हूतियों ने लाल सागर में कई मिसाइल और ड्रोन हमले किए हैं, जिससे कई जहाजों को नुकसान पहुंचा है। हूतियों को ईरान का खुला समर्थन हासिल है और वे हमास के समर्थन में लगातार मिसाइल और ड्रोन हमले कर रहे हैं। इससे दुनिया के इस सबसे व्यस्त व्यापारिक मार्गों में शामिल समुद्री रास्ता अब संकट में आ गया है। यही वजह है कि कई कंपनियां अब अफ्रीका के रास्ते व्यापार कर रही हैं। इसमें बहुत खर्च आ रहा है।
भारत ने अदन की खाड़ी में तैनात किए युद्धक जहाज
इससे पहले भारत ने हूतियों के हमले को देखते हुए अदन की खाड़ी में दो मिसाइलों से लैस डेस्ट्रायर को तैनात किया था। भारत ने इस पूरे इलाके में भारतीय जहाजों की सुरक्षा के लिए कई कदम उठाए हैं। वहीं, हूती विद्रोही लगातार अपने हमलों को बढ़ा रहे हैं और इसको देखते हुए अमेरिका ने 20 देशों के साथ मिलकर एक मैरिटाइम फोर्स बनाई है ताकि जवाबी कार्रवाई को अंजाम दिया जा सके। इस बीच हूतियों ने धमकी दी है कि वे लाल सागर को अमेरिकी जहाजों का कब्रिस्तान बना देंगे।

You can share this post!

author

Jyoti Bala

By News Thikhana

Senior Sub Editor

Comments

Leave Comments