आज है विक्रम संवत् 2081 के वैशाख माह के शुक्लपक्ष की चतुर्दशी तिथि सायं 06:47 बजे तक बुधवार 21 मई 2024
क्या हरियाणा में गिर जाएगी नायब सैनी की सरकार? निर्दलियों की समर्थन वापसी

राजनीति

क्या हरियाणा में गिर जाएगी नायब सैनी की सरकार? निर्दलियों की समर्थन वापसी

राजनीति//Haryana/Chandigarh :

लोकसभा चुनावों के तीसरे चरण की वोटिंग खत्म होते ही हरियाणा में सियासी उठापठक सामने आई है। नायब सैनी सरकार को समर्थन दे रहे निर्दलीय विधायकों ने कांग्रेस को समर्थन का ऐलान कर दिया है। कांग्रेस का दावा है कि राज्य में बीजेपी की सरकार अल्पमत में आ गई है।

हरियाणा में तीन निर्दलीय विधायकों द्वारा नायब सैनी की अगुवाई वाली बीजेपी सरकार से समर्थन वापस लेने पर राज्य की राजनीति गरमा गई है। लोकसभा चुनावों के बीच में हुए खेला पर मुख्यमंत्री नायब सैनी ने जहां कांग्रेस पर निशाना साधा है तो वहीं पूर्व सीएम भूपेंद्र हुड्डा ने निर्दलीय विधायकों ने सही समय पर सही फैसला लिया है। कांग्रेस के राज्य सभा सांसद दीपेंद्र हुड्डा ने कहा है कि नायब सैनी सरकार अल्पमत में आ गई है। मुख्यमंत्री नायब सैनी ने कांग्रेस पर निशाना साधा है। इसके साथ ही उनके मीडिया सेक्रेटरी ने दावा किया है कि सरकार को कोई खतरा नहीं है।
इन तीन विधायकों ने छोड़ा था, सौंपा पत्र
हरियाणा में नायब सैनी सरकार को समर्थन दे रहे चरखी दादरी से विधायक सोमवीर सांगवान और विधायक पुंडरी रणधीर गोलन के साथ धर्मपाल गोंदर विधायक नीलोखेड़ी ने समर्थन वापस लेने का ऐलान किया है। इन विधायकों ने राज्यपाल को सूचित भी कर दिया है। विधायकों ने लोकसभा चुनावों में कांग्रेस के उम्मीदवारों के लिए प्रचार करने का ऐलान किया है। गुरुग्राम की बादशाहपुर सीट से निर्दली विधायक राकेश दौलताबाद भी नाराज बताए जा रहे हैं। तीन निर्दलियों के समर्थन खींचने से नायब सैनी सरकार पर संकट आया है। हरियाणा में मौजूदा संख्याबल में बहुमत का आंकड़ा 45 विधायकों का है। नायब सैनी की अगुवाई वाली बीजेपी सरकार के पास अब 44 विधायकों का समर्थन बचा है।
निर्दलियों ने छोड़ा साथ, तेज हुई राजनीति 
कुछ विधायकों की इच्छाएं होती हैं। हर व्यक्ति की इच्छाएं होती हैं। कांग्रेस आज कल इच्छाएं पूरी करने में लगी हुए है। लोग सब जानते हैं कि किसकी क्या इच्छा है। कांग्रेस को सिर्फ इच्छाएं पूरी करनी है।
नायब सैनी, मुख्यमंत्री हरियाणा


जो समर्थन इन्होंने दे रखा था उसे वापस लिया है और कांग्रेस को दिया है। इनका फैसला ठीक समय पर ठीक है।
भूपेंद्र सिंह हुड्डा, पूर्व सीएम हरियाणा

हरियाणा से बीजेपी सरकार की विदाई हो रही है। तीन निर्दलीय ने समर्थन वापस लिया है। कुछ विधायक इस्तीफा देकर लड़ रहे हैं। अगले चुनाव में भूपेंद्र हुड्डा की अगुवाई में सरकार बनेगी। हरियाणा सरकार अल्पमत में आ गई है।
दीपेंद्र हुड्डा, कांग्रेस नेता

बीजेपी का दावा अल्ममत में नहीं
मुख्यमंत्री के मीडिया सेक्रेटरी परवीन अत्रे ने दावा किया है कि सरकार की सेहत पर कोई संकट नहीं है। उन्होंने कहा कि निर्दलीय विधायकों द्वारा कांग्रेस को समर्थन दिए जाने पर हरियाणा सरकार पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा। आज भी हरियाणा की सरकार बहुमत की सरकार है। हरियाणा की सरकार पूरी तरह से सुरक्षित है। अत्रे ने कहा कि अगर अंक गणित और आंकड़ों को देखा जाए आज सरकार के पास 47 विधायकों का समर्थन है। जिसकी वजह से सरकार पूरी तरह से सुरक्षित है, उन्होंने कहा कि अगर कानूनी दृष्टि से बात की जाए तो सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव नहीं आ सकता, इससे पहले विधानसभा में भूपेंद्र सिंह हुड्डा के नेतृत्व में कांग्रेस अविश्वास प्रस्ताव लेकर आई थी, जो कि गिर गया था, कानून ये कहता है कि छह महीने तक दुबारा अविश्वास प्रस्ताव नहीं लाया जा सकता।

You can share this post!

author

Jyoti Bala

By News Thikhana

Senior Sub Editor

Comments

Leave Comments