भारत ने जिम्बाब्वे को आखिरी टी-20 मैच में 42 रनों से हराया और 4-1 की जीत के साथ शृंखला पर कब्जा जमाया केंद्रीय वित्त मंत्रालय की मंजूरी से महिला आईआरएस अधिकारी पुरुष बनी..! अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप पर भाषण के दौरान चली गोलियां, बाल-बाल बचे..सुरक्षा अधिकारियों ने हमलावरों को किया ढेर आज है विक्रम संवत् 2081 के आषाढ़ माह के शुक्लपक्ष की अष्ठमी तिथि सायं 05:26 बजे तक तदुपरांत नवमी तिथि प्रारंभ यानी रविवार, 14 जुलाई 2024
नाम से गफलत...! यूपीएससी में एक केंडीडेट के नाम पर दो राज्यों में मना जश्न

एजुकेशन, जॉब्स और करियर

नाम से गफलत...! यूपीएससी में एक केंडीडेट के नाम पर दो राज्यों में मना जश्न

एजुकेशन, जॉब्स और करियर/सरकारी/Delhi/New Delhi :

यूपीएससी परीक्षा 2023 का रिजल्ट जारी होने के बाद एक ऐसा अजीब मामला सामने आया कि एक ही रैंक के लिए दो राज्यों में जश्न मनाया जाता रहा। राजस्थान के अजमेर में एक महिला प्रोफेसर के घर तो तीन दिन जश्न चलता रहा। जब सच्चाई सामने आई तो पूरे परिवार के पैरों तले जमीन खिसक गई। 

यूपीएससी परीक्षा 2023 का रिजल्ट जारी होने के बाद एक अजीब मामला सामने आया है। यूपीएससी में सफलता हासिल का दावा करते हुए एक महिला प्रोफेसर के घर तीन दिन तक जश्न चलता रहा लेकिन फिर सामने आई सच्चाई ने पूरे परिवार के होश उड़ा दिए। पता चला कि महिला प्रोफेसर के शहर से करीब 500 किलोमीटर दूर रहने वाली दूसरी महिला को यूपीएससी में सफलता मिली है। गफलत की कहानी भी कम दिलचस्प नहीं है। 
दरअसल मामला संघ लोक सेवा आयोग परीक्षा 2023 में 470वीं रैंक हासिल करने वाली कैंडिडेट के नाम से जुड़ा हुआ है। राजस्थान की मार्बल नगरी किशनगढ़ (अजमेर) की बेटी ऋतु यादव को इस रैंक पर पास होने वाली कैंडिडेट माना जा रहा था लेकिन हकीकत इससे उलट थी। तीन दिन बाद अब सामने आया है कि किशनगढ़ की नहीं, मध्य प्रदेश के पृथ्वीपुर (निवाड़ी) की रहने वाली ऋतु का चयन यूपीएससी में 470वीं रैंक पर हुआ है। गफलत इसलिए हुई क्योंकि कैंडिडेट के नाम के आगे पिता का नाम मौजूद नहीं था।
किशनगढ़ निवासी ऋतु यादव वर्तमान में पाली के महिला कॉलेज में हिंदी की प्रोफेसर हैं। ऋतु कई अन्य प्रतियोगी परीक्षाओं में भी सफलता हासिल कर चुकी हैं। साल 2021 में आरएएस में चयन हुआ है और जल्द ही जॉइन करने वाली हैं। ऋतु के परिवार का कहना है कि वह आगे भी आईएएस के लिए प्रयास करती रहेंगी।
इसलिए भी हुआ कन्फ्यूजन
दरअसल, यूपीएससी की ओर से घोषित परिणाम में 1016 अभ्यर्थियों की रैंक जारी की गई। इंटरव्यू दोनों ऋतु यादव की ओर से दिया गया था। रिजल्ट सूची में 470वीं रैंक पर सिर्फ एक ऋतु यादव का नाम था लेकिन पिता का नाम लिस्ट में नहीं था। इसलिए भी गफलत हो गई। किशनगढ़ निवासी ऋतु यादव का ध्यान रोल नंबर पर नहीं गया। वहीं, एमपी के निवाड़ी की रहने वाली ऋतु यादव के घर यूपीएससी एग्जाम-2023 में सफल होने का जश्न मनाया जा रहा है।

You can share this post!

author

Jyoti Bala

By News Thikhana

Senior Sub Editor

Comments

Leave Comments