जुलाई के अंत में BJP शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों और उपमुख्यमंत्रियों की होगी मीटिंग- सूत्र उत्तराखंड में मॉनसून अलर्ट, बारिश की संभावना, यात्रियों को सतर्क रहने की चेतावनी J-K: डोडा जिले में आधी रात सुरक्षा बलों और आतंकवादियों के बीच हुई गोलीबारी, सेना शुरू की तलाशी बिहार: सारण जिले के रसूलपुर में ट्रिपल मर्डर, 2 नाबालिग बेटी और पिता की चाकू मारकर हत्या बांग्लादेश: नौकरियों में आरक्षण का विरोध, 6 प्रदर्शनकारियों की मौत, स्कूल-कॉलेज बंद आज से अपना राजनीतिक दौरा शुरू करेंगी शशिकला केजरीवाल की जमानत अर्जी पर आज अदालत में जवाब दाखिल कर सकती है CBI CM योगी आज मंत्रियों के साथ करेंगे मीटिंग, विधानसभा उपचुनाव को लेकर होगी चर्चा ध्य प्रदेश के चर्चित जस्टिस रोहित आर्य ने भाजपा का दामन थामा प्रशिक्षु आईएएस पूजा खेडकर के विरुद्ध सख्ती, ट्रेनिंग रद्द कर वापस भेजा गया मसूरी अकादमी..! बदले में पूजा ने पुणे डीएम पर लगाया यौन उत्पीड़न का आरोप हरभजन, युवराज सिंह और रैना मुश्किल में, पैरा एथलीट्स का उड़ाया था मजाक..FIR दर्ज आज है विक्रम संवत् 2081 के आषाढ़ माह के शुक्लपक्ष की दशमी तिथि रात 08:33 बजे तक तदुपरांत एकादशी तिथि प्रारंभ यानी मंगलवार, 16 जुलाई 2024
फैल रहा है AI Voice Cloning साइबर क्रिमिनल्स का नया मायाजाल..सावधान रहें और सतर्क रहें..!

लेख

फैल रहा है AI Voice Cloning साइबर क्रिमिनल्स का नया मायाजाल..सावधान रहें और सतर्क रहें..!

लेख//Rajasthan/Kota :

आज से कुछ वर्षों पूर्व क्या किसी ने कल्पना की थी कि कोई जालसाज आपके सगे संबंधी के आवाज में आपको फोन कर  आपके साथ अपराध करेगा? दुर्भाग्यवश AI ने हमें सहूलियत के साथ-साथ साइबर क्रिमिनल्स को नए तरीके प्रदान किए हैं एवं हमें खतरे में भी डाल दिया है ।

मैं बात कर रही हूं एआई वॉइस क्लोनिंग(AI Voice Cloning)की, एक ऐसी तकनीक जिसमें किसी भी इंसान की आवाज की हूबहू नकली आवाज तैयार की जाती है। इस नकली आवाज को तैयार करने के लिए महज 3 या 4 सेकंड की ऑडियो रिकॉर्डिंग ही काफी होती है।केवल बेसिक जानकारी और थोड़े से अनुभव के जरिए किसी भी शख्स की आवाज से 85 फीसदी मिलती जुलती नकली आवाज तैयार की जा सकती है। वहीं, वॉइस क्लोनिंग के एक्सपर्ट कुछ छोटी-छोटी ऑडियो फाइल्स के जरिए 95 फीसदी तक मिलती हुई नकली आवाज तैयार कर सकते हैं।

क्या है यह AI वॉइस क्लोनिंग स्कैम?

यह घोटाला पीड़ित को एक फोन कॉल से शुरू होता है, जिसमें एक जालसाज पीड़ित को किसी ऐसे व्यक्ति के रूप में पेश करता है जिसे वह जानता है और जिस पर वह भरोसा करता है, जैसे कि परिवार का सदस्य या दोस्त। जालसाज किसी मनगढ़ंत आपात स्थिति या धमकी के कारण वित्तीय सहायता की तत्काल आवश्यकता होने का दावा कर सकता है। जालसाज पीड़ित में तात्कालिकता और भावनात्मक संकट की भावना पैदा करने के लिए विभिन्न हथकंडे अपनाता है। वह रोने या विनती करने के लहजे में यह दावा कर सकता है कि वह एक गंभीर स्थिति में है जिसके लिए तत्काल मदद की आवश्यकता है।

जाने क्राइम को अंजाम देने का तरीका

आसान शब्दों में अगर हम समझना चाहे, जालसाज उस व्यक्ति की आवाज़ को क्लोन करने के लिए परिष्कृत AI सॉफ़्टवेयर का उपयोग करता है जिसका वह प्रतिरूपण कर रहा है। वे सोशल मीडिया पोस्ट/वीडियो से या 'गलत नंबर' की रणनीति का उपयोग करके फ़ोन पर व्यक्ति से बात करके व्यक्ति की आवाज़ का नमूना प्राप्त करते हैं। यह तकनीक उन्हें पीड़ित के भरोसेमंद संपर्क की आवाज़ के साथ-साथ स्वर और भावनात्मक बारीकियों की नकल करने की अनुमति देती है।B

एक बार जब वे तत्परता और विश्वास की भावना स्थापित कर लेते हैं, तो घोटालेबाज पीड़ित से संकट को हल करने में मदद करने के लिए तुरंत धन हस्तांतरित करने का अनुरोध करता है। वह अक्सर लेन-देन में तेजी लाने के लिए यूनिफाइड पेमेंट्स इंटरफेस (UPI) सिस्टम जैसे तेज़ और सुविधाजनक भुगतान विधियों का उपयोग करने का सुझाव देता है। चिंता और अपने प्रियजन की मदद करने की इच्छा से प्रेरित होकर, पीड़ित कॉल करने वाले की प्रामाणिकता या स्थिति की वैधता की पुष्टि किए बिना घोटालेबाज की मांगों का अनुपालन कर सकता है।

धन हस्तांतरण पूरा होने के बाद, पीड़ितों को बाद में एहसास हो सकता है कि उनके साथ धोखा हुआ है जब वे स्वतंत्र रूप से अपने परिवार के सदस्य या मित्र से संपर्क करते हैं और पाते हैं कि वे कभी भी संकट में नहीं थे या उन्हें वित्तीय सहायता की आवश्यकता नहीं थी। पीड़ित को वित्तीय नुकसान होता है, और इसके अतिरिक्त, उन्हें धोखा दिया जा सकता है, उल्लंघन किया जा सकता है, और यह महसूस करने पर भावनात्मक रूप से परेशान हो सकते हैं कि उनके साथ धोखाधड़ी की गई है,

डरे नहीं सतर्क रहकर अपनों  और अपने परिजनों को सुरक्षित रखें

कॉल करने वाले व्यक्ति की पहचान हमेशा सत्यापित करें, खासकर यदि वे तत्काल वित्तीय सहायता का अनुरोध करते हैं और जांच करने वाले प्रश्न पूछना चाहते हैं या किसी ज्ञात, सत्यापित नंबर के माध्यम से मित्र/रिश्तेदार से संपर्क करके कोई कार्रवाई करने से पहले उनकी पहचान की पुष्टि करना चाहते हैं।

वॉयस क्लोनिंग धोखाधड़ी सहित आम घोटालों के बारे में जानकारी रखें और चेतावनी के संकेतों को पहचानना सीखें। पैसे के लिए अप्रत्याशित अनुरोधों से सावधान रहें, खासकर यदि वे तत्काल स्थितियों या भावनात्मक हेरफेर से जुड़े हों। यदि आपको संदेह है कि आप इस तरह की धोखाधड़ी का शिकार हुए हैं या आपको कोई संदिग्ध गतिविधि देखने को मिली है, तो घटना की सूचना साइबर क्राइम टोल फ्री हेल्पलाइन 1930 पर दें या शिकायत दर्ज करें

You can share this post!

author

श्रीमती विजया तिवारी

By News Thikhana

श्रीमती विजया तिवारी, एक पेशेवर सायबर फॉरेंसिक साइंस की विशेषज्ञ और सलाहकार हैं। वे वर्तमान में 'तथ्य फॉरेंसिक विंग फेडरेशन' की कार्यकारी निदेशक हैं, जो उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड, मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ जैसे राज्यों के जिलों में फॉरेंसिंक डॉक्यूमेंट की रिसर्च के साथ फॉरेंसिक मामलों को सुलझाने में मदद कर रही है। साथ ही देश की प्रतिष्ठित प्रयोगशालाओं को ट्रेनिंग देने का काम भी कर रही है।

Comments

Leave Comments